Home खेल सेंट्रल Sports मिनिस्टर ने कहा- खेल के साथ खेल बर्दाश्त नहीं

सेंट्रल Sports मिनिस्टर ने कहा- खेल के साथ खेल बर्दाश्त नहीं

central Sports minister rajyavardhane rathaor

नई दिल्ली। राज्यवर्धन राठौड़ से बेहतर खेल के बारे में, फेडरेशंस के बारे में, उनके कामकाज के बारे में, उस कामकाज में कुशासन के बारे में कोई दूसरा शायद ही बेहतर समझ सके। क्योंकि वह खेल मंत्री होने से पहले खिलाड़ी रहे। खेल मंत्री बनने के बाद उन्होंने जिस तरह से कामकाज शुरू किया है उसी की एक कड़ी था, उनके द्वारा चेतावनी। चेतावनी सभी नैशनल स्पोर्ट्स फेडरेशंस को दी गई है कि सुधर जाओ, खेल के साथ खेल मत करो। करते पाए गए, तो अंजाम बुरा होगा।

‘स्पोर्ट्स फॉर ऑल‘ के वर्कशॉप का,

मौका था राजधानी में ‘स्पोर्ट्स फॉर ऑल‘ के वर्कशॉप का, खेल मंत्री ने इसमें शिरकत करने आए। इंडियन ओलिंपिक असोसिएशन, स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया आदि के अस्सी प्रतिनिधियों को जता दिया कि- उनका मंत्रालय खेलों के बारे में अहम घोषणाएं करने के अलावा इस पर नजर रखेगा कि उसे अमली जामा पहनाने में खुद फेडरेंशंस की तरफ से बाधा तो नहीं आ रही।

राठौड़ ने वर्कशॉप में आए विभिन्न फेडरेंशंस के प्रतिनिधियों से कहा कि आप खुद अपनी जवाबदेही तय करें। सूचनाओं को सामने रखें, उन्हें साझा करें। सबके सामने सूचनाएं होने से किस दिशा में काम हो रहा है, यह पता चलता रहेगा।
खेल मंत्री ने कहा कि और ज्यादा पेशेवर बनने की दिशा में कदम उठाते हुए हम मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) रखने पर भी विचार कर रहे हैं। उन्होंने स्कूली स्तर पर खेल की बेहतरी के लिए दिसंबर में खेलो इंडिया स्कूल गेम्स लॉन्च करने की बात भी कही। साथ ही खेलों में बेहतर प्रशिक्षण के लिए श्कोच बैंकश् की जरूरत बताते हुए इस दिशा में काम करने की वचनबद्धता दोहराई। उन्होने कार्यक्रम के दौरान साफ कहते हुए कहा कि- खेल के साथ खेल करने वाले बिल्कुल बर्दास्त नहीं होंगे।