Home Home सनी लियोन के ‎विवा‎दित ‎विज्ञापन से बढ़ी कॉन्डम की बिक्री- हिंदू संगठनों...

सनी लियोन के ‎विवा‎दित ‎विज्ञापन से बढ़ी कॉन्डम की बिक्री- हिंदू संगठनों और व्यापार निकायों के ‎विरोध के बाद कॉन्डम की सेल 35 फीसदी बढ़ी

सनी लियोन के ‎विवा‎दित ‎विज्ञापन से बढ़ी कॉन्डम की बिक्री- हिंदू संगठनों और व्यापार निकायों के ‎विरोध के बाद कॉन्डम की सेल 35 फीसदी बढ़ी
सनी लियोन के ‎विवा‎दित ‎विज्ञापन से बढ़ी कॉन्डम की बिक्री- हिंदू संगठनों और व्यापार निकायों के ‎विरोध के बाद कॉन्डम की सेल 35 फीसदी बढ़ी

अहमदाबाद. गुजरात में नवरात्र के दिनों में एक कॉन्डम कंपनी के विज्ञापन पर हिंदू संगठनों और व्यापार निकायों ने विरोध जताया था। इसके बाद सड़कों से इसके होर्डिंग्स भी हटा दिए गए थे लेकिन कॉन्ट्रोवर्सी के बाद कॉन्डम की सेल 35 फीसदी तक बढ़ गई है और कंपनियों को खूब फायदा हो रहा है।

 कॉन्डम के विज्ञापन पर इसकी ब्रांड अंबेस्डर सनी लियोन की तस्वीर के साथ होर्डिंग 

दरअसल बीते दिनों गुजरात की सड़कों पर कॉन्डोम के विज्ञापन पर इसकी ब्रांड अंबेस्डर सनी लियोन की तस्वीर के साथ होर्डिंग लगाई गई थी जिसके पोस्टर में गुजराती भाषा में टैगलाइन लिखी थी, ‘आ नवरात्री ए रामो, परानतु प्रेमथी जिसका हिंदी में अर्थ था नवरात्र में खेलें…मगर प्यार से’। विरोध कर रहे तमाम हिंदू संगठनों का कहना था कि ये विज्ञापन हिंदू भावनाओं को ठेस पहुंचाने जैसा है।

वहीं बात करें मार्केट की तो नवरात्र के दिनों में कॉन्डम के साथ-साथ गर्भनिरोधक की मांग में हमेशा इजाफा रहता है और इनकी बिक्री भी अच्छी होती है। इस साल भी यह दर 35 फीसदी तक बढ़ गई है।

कंपनी के एक अनुमान के अनुसार कॉन्डम और गर्भनिरोधक का मासिक कारोबार दो करोड़ से ऊपर र

गुजरात स्टेट फेडरेशन के केमिस्ट और ड्रगिस्ट एसोशिएसन (जीएसएफसीडीए) के चेयरमैन जशवंत पटेल कहते हैं ‎कि नवरात्र के दौरान कॉन्डम और गर्भनिरोधक की मांग हमेशा बढ़ जाती है। इस बार ये मांग त्योहार से पहले ही है और बिक्री भी अच्छी है।

पटेल बताते हैं कि इस दौरान कई पान दुकानों ने भी देर रात तक दुकान खोलकर कॉन्डम बेचना शुरू कर देते हैं। कंपनी के एक अनुमान के अनुसार कॉन्डम और गर्भनिरोधक का मासिक कारोबार दो करोड़ से ऊपर रहता है जो नवरात्र के दिनों में 30 से 35 फीसदी तक बढ़ जाता है। इस वजह से हर ब्रांड खासकर इस त्योहार में अपने प्रचार के प्रयास में जुटे रहते हैं।

हिंदू धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंची

आरएसएस से जुड़ी डॉक्टरों की संस्था गुजरात नेशनल मेडिको ऑर्गनाइजेशन (जीएनएमओ) ने अपने 7000 सदस्यों को फार्मा द्वारा निर्मित किसी भी दवा की सलाह देने से मना किया है। जीएनएमओ ने अध्यक्ष डॉ. प्रकाश कुर्मी ने कहा है ‎कि कंपनी ने जो विज्ञापन में कंटेट का इस्तेमाल किया है उससे हिंदू धर्म की भावनाओं को ठेस पहुंची हैं।

सोशल मीडिया पर इस विज्ञापन को हटाने और माफी की मांग करते हुए कंपनी के खिलाफ एक कैंपेन शुरू किया है। वहीं कंपनी की तरफ से जारी बयान में कहा गया ‎कि नवरात्र होर्डिंग कैंपेन का मकसद किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं था और जल्द ही इसे हटा भी दिया गया है।