Home Home भारत म्यांमार बार्डर पर सेना ने की बड़ी कार्यवाई, कई उग्रवादी मारे...

भारत म्यांमार बार्डर पर सेना ने की बड़ी कार्यवाई, कई उग्रवादी मारे गए

नई दिल्ली। पूर्वी नगालैंड में भारत-म्यांमार सीमा पर बुधवार तड़के भारतीय सेना की कार्रवाई में उग्रवादियों को भारी नुकसान होने की खबर है, लेकिन सेना ने इसे सर्जिकल हमला कहने से इनकार किया है।

हमारी सेना ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पार नहीं की
सेना की पूर्वी कमान ने साफ किया कि हमारी सेना ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पार नहीं की। सेना की एक टुकड़ी म्यांमार सीमा पर थी, तभी अज्ञात हमलावरों ने फायरिंग की। जवाबी कार्रवाई में हमलावर भाग खड़े हुए। उन्हें भारी नुकसान हुआ। भारतीय सैनिकों को नुकसान नहीं पहुंचा। मामला उग्रवादी संगठन एनएससीएन (के) की फेसबुक पोस्ट से शुरू हुआ, जिसमें भारतीय सैनिकों को नुकसान पहुंचाने का दावा किया गया था। इस पर सेना ने ट्वीट किया कि सैनिकों को नुकसान की रिपोर्ट गलत है।

म्यांमार ने कहा था कि भारतीय सैनिक उसकी सीमा में नहीं घुसे

जून 2015 में भारत-म्यांमार सीमा पर सर्जिकल हमले की चर्चा दुनियाभर में हुई थी। तब म्यांमार ने कहा था कि भारतीय सैनिक उसकी सीमा में नहीं घुसे। बुधवार के हमले में भारतीय सेना के म्यांमार में घुसने की पुष्टि होती तो वहां की सरकार भारत से नाराज हो सकती थी। चीन इन दिनों म्यांमार पर अपना प्रभाव बढ़ाने की कोशिश कर रहा है और रोहिंग्या मुद्दे पर फिलहाल भारत और म्यांमार के रिश्ते नाजुक दौर में जा सकते हैं।
देश की असुरक्षित सरहदों को देखते हुए सर्जिकल स्ट्राइक जैसी कार्रवाई को सिर्फ छाती पीटने वाली घटना से अलग करके देखने की जरूरत है। यह कहना गलत होगा कि ऐसी कार्रवाइयों का महज राजनीतिक उद्देश्य होता है। सरकार और राजनीतिक नेतृत्व की मंजूरी की छत्रछाया में सेना द्वारा उठाए गए ऐसे कदम असल में उन ताकतों की हवा निकालते हैं जो किसी न किसी रूप में हमारी संप्रभुता के लिए चुनौती हैं।